ब्लॉग प्रसारण पर आप सभी का हार्दिक स्वागत है !!!!

वैसे तो इस तरह के तमाम ब्लॉग उपलब्ध हैं जिनमें से कुछ काफी प्रसिद्ध हैं. इस ब्लॉग को शुरू करने का हमारा उद्देश्य कम फोलोवर्स से जूझ रहे ब्लॉग्स का प्रचार करना एवं वे लोग जो ब्लॉग बनाना चाहते हैं परन्तु अज्ञान वश बना नहीं पाते या फिर अपने ब्लॉग का रूप, रंग ढंग नहीं बदल पाते उनकी समस्या का समाधान करना भी है. परन्तु यदि नए ब्लॉग नवीनीकरण (अर्थात update ) नहीं होंगे उनके लिंक नहीं लगाये जायेंगे उनकी जगह अन्य लिनक्स को स्थान दिया जायेगा. साथ ही साथ प्रतिदिन एक या दो विशेष रचना "विशेष रचना कोना' पर प्रस्तुत की जायेंगी और "परिचय कोना" पर परिचय भी दिया जायेगा. ब्लॉग में किसी भी तरह की समस्या को इस पते पर लिख भेजें : blogprasaran@gmail.com समाधान हेतु यथासंभव प्रयास किया जायेगा....

नोट : सभी ब्लॉग प्रसारण कर्ता मित्रों से अनुरोध है कि वे अपने पसंद के सीमित लिंक्स अर्थात अधिकतम (10-15) ही लिंक्स लगायें ताकि सभी लिंक्स पर पहुंचा जा सके.


मित्र - मंडली

पृष्ठ

ब्लॉग प्रसारण परिवार में आप सभी का ह्रदयतल से स्वागत एवं अभिनन्दन


Friday, May 31, 2013

उद्गार

सभी मित्रों को नमस्कार!

साहित्य के अथाह सागर में से कुछ मोती चुनकर लाना अत्यन्त दुष्कर कार्य है। समझ नहीं आता किसे चुनें और किसे छोड़ें। इस बार मैं अपने पसंद के कुछ नए पुराने  लिंक्स लेकर आपके सामने हाजिर हुआ हूं। देखिए, इनमें आपको कितने पसंद आते हैं।

-------------------------------------------------------------------

Annapurna Bajpai 

आकंठ डूबे हुये हो क्यों, 
अज्ञान तिमिर गहराता है। 
ये तेरा ये मेरा क्यों , 
दिन ढलता जाता है। 
-------------------------------------------------------------------

जवाहर 
--------------------------------------------------------------------

रश्मि शर्मा 

उदासी की सातवीं किस्‍त * * * * 
लगातार तनाव और उदासी से यूं लग रहा है जैसे रक्‍त-शि‍राएं फट पडेंगी.....इतनी बेचैनी...इतनी उदासी.......
--------------------------------------------------------------------


Arun Kumar Nigam
--------------------------------------------------------------------

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक 

गैस सिलेण्डर कितना प्यारा। 
मम्मी की आँखों का तारा।।
--------------------------------------------------------------------

Vijay Nikore
-------------------------------------------------------------------

Vandana Tiwari

संवेदना के शुष्क तरु सानिध्य में,
पुष्प प्रीति के, 
ढूंढे जा रहे हैं आज। 
-------------------------------------------------------------------

 सौरभ 
--------------------------------------------------------------------

Kailash Sharma

जो भी मिला जीवन में 
चढ़ाये था एक मुखौटा अपने चेहरे पर, 
हो गया मज़बूर मैं भी 
--------------------------------------------------------------------

बशीर बद्र...:  

 कोई काँटा चुभा नहीं होता 
दिल अगर फूल सा नहीं होता 
कुछ तो मजबूरियाँ रही होंगी 
यूँ कोई बेवफ़ा नहीं होता 
----------------------------------------------------------------



तो अब आज्ञा दीजिए................
नमस्कार!



Thursday, May 30, 2013

ब्लॉग प्रसारण-११

नमस्कार मित्रों,
आज के इस ग्यारहवें अंक में आप सभी का मैं राजेंद्र कुमार आपका हार्दिक स्वागत करता हूँ। आज के प्रसारण में मैं अपनी पसंद के कुछ चुनिंदा लिंक्स लेकर आपके समक्ष उपस्थित हुआ हूं।आशा है आप सब पहले की ही तरह अपना स्नेह बनाये रखेंगे,तो आइये एक नजर डालते है आज के प्रसारण की तरफ...

क्या लाया ...


अरुण कुमार निगम



सिर्फ पानी का बुलबुला लाया
इस से ज्यादा बता दे क्या लाया

समझदार चप्पू

कुमार गौरव

चप्पू हिरण नंदनवन में अपने परिवार के साथ रहता था। वो एक बहादुर और समझदार छौना (हिरण का बच्चा) था। छुटपन में ही वो बड़ी बुद्धिमानी की...
                               कटु सत्य-लैप टॉप की राजनीति
Annapurna Bajpai

आजकल हमारे मुख्यमंत्री जी काफी सुर्खियों मे है वे हर जगह लैप टॉप का लाली पॉप बांटते नजर आ रहे है।शायद कुछ चमचे टाइप लोगो को.......
ब्रिजेश सिंह 
पुष्पों सा,हंसने खिलखिलाने वाली

प्रीति---स्नेह


मुखरित मैं मिलकर तुमसे

दारू के इक गिलास में

राजीव शर्मा 





सुशील यादव

मन तपा हर पल यादों मेंछूकर देखो इन अंगारों को
हरा –भरा है बाग़ –बगीचा
अंतस की सूखी खेती है

हाथों से बस उम्रर  फिसलती
मुठ्ठी –भर सांस की रेती है ...
मदन सक्सेना 
ग़ज़ल
मेरे जिस टुकड़े को दो पल की दूरी बहुत सताती थी
जीवन के चौथेपन में अब ,बह सात समन्दर पार हुआ

Pdf file editor

sanny chauhan

पीडीऍफ़ फाइल को एडिट करने का
 सॉफ्टवेर

अंत में एक अनमोल वचन को भी देख लें.

आज के प्रसारण को यहीं पर विराम देते हैं,इसी के साथ मुझे इजाजत दीजिये,मिलते हैं फिर से एक नए उमंग के साथ अगले गुरुवार को कुछ नये चुने हुए प्यारे लिंक्स के साथ. शुभ विदा शुभ दिन.


Wednesday, May 29, 2013

ब्लॉग प्रसारण : अंक 10.


खुद जी लिए तो जीना सिखायो सबको,
मुस्कराने का कोई रास्ता बतायो सबको!
|..सरिता भाटिया..|
नमस्कार.....
सब का 'ब्लॉग प्रसारण' पर स्वागत है 
मैं 
फिर ले आई हूँ आपके लिए कुछ चुनिंदा लिंक्स 
एक नजर डालिए अपना स्नेह दीजिए 
हमेशा की तरह 
अरुण शर्मा अनंत 
विकेश बडोला 
डॉ.रूप चन्द्र शास्त्री जी 
राजेंद्र कुमार 
फेसबुक से उड़ाई  
हमने लगाई 

मनु त्यागी 
प्रवीन मलिक 
उपासना सिआग 
अभिमन्यु भारद्वाज 
Bhatia College

एक और उड़ाई 

दीजिये सरिता भाटिया को इजाज़त 
फिर से नए लिंक्स सजाने के लिए 
शुभविदा ..

Tuesday, May 28, 2013

ब्लॉग प्रसारण अंक - 9


"जय माता दी" अरुन की ओर से आप सबको सादर प्रणाम . ब्लॉग प्रसारण में आप सभी का एक बार फिर से हार्दिक स्वागत है


सरिता भाटिया

Minakshi Pant
मन का मीत
जीवन में संगीत
यही है प्रीत
जीवन नैया
चल दूर खिवैया
ओ मेरे सैयां
सुन्दर कली
फूल बन के खिली
बिदाई भली

Rajendra Kumar



मीनाक्षी



Yashoda Agrawal



Brijesh Singh



Vandana



रश्मि शर्मा


Sunita Shanoo


इसी के साथ मुझे इजाजत दीजिये मिलते हैं अगले मंगलवार को आप सभी के चुने हुए प्यारे लिंक्स के साथ. शुभ विदा शुभ दिन.

Monday, May 27, 2013

ताऊ कालेज आफ़ लेटेस्ट फ़ंडा कोर्सेस...प्रवेश शुरू! : ब्लॉग प्रसारण अंक 8


"जय माता दी" अरुन की ओर से आप सबको सादर प्रणाम .आज नीरज जी का कंप्यूटर बीमार है तो उनकी जगह मैं हाजिर हूँ आज के ब्लॉग प्रसारण में .

ताऊ रामपुरिया

Anupama Tripathi

महेन्द्र श्रीवास्तव


Shikha Kaushik


Sadhana Vaid


Vandana Gupta


Ramaajay Sharma


Sanny Chauhan

अरुणा


Udaya Veer Singh


Yashoda Agrawal
इसी के साथ मुझे इजाजत दीजिये मिलते हैं मंगलवार को आप सभी के चुने हुए प्यारे लिंक्स के साथ. शुभ विदा शुभ दिन.

Sunday, May 26, 2013

ब्लॉग प्रसारण-7


ब्लॉग प्रसारण-7
रविवार की प्रातः बेला , रविकर का सुन्दर मंद हास
नमन सभी सुधिजन को, स्वीकारें मेरा प्रथम प्रयास
नमस्कार मित्रों
आज, मैं शालिनी , आप सभी के समक्ष ब्लॉग प्रसारण की सप्तम प्रस्तुति में कुछ चुनिन्दा लिंक्स के साथ हाजिर हूँ -

गर्मी तपते व्याकुल जन-जन की,
बदरा बस सुन ले इतनी पुकार|
हर्षित हो मन का रोम-रोम,
पुलकित हो धरा पा जल धार|

बस कि आसान नहीं हर बात का आसाँ होना
आदमी को भी मयस्सर नहीं यहाँ इंसाँ होना
अभय श्रीवास्तव
 
सुनी है कभी सन्नाटों की चीखें
ध्यान दो अगर वो भी कुछ कहते हैं
वो बात और है पर सुनने को कान नहीं
बस एक संवेदनशील दिल चाहिए
बृजेश नीरज
रोज के कांड, गडबड घोटाले
कितना देखें, कितनी नज़र बचा लें
दाल में काला हो तो निकाले भी कोई
काली दाल में कालापन कहां तक निकालें
महेंद श्रीवास्तव
तेरा चेहरा, तेरी बातें, तेरा ख्याल, बस तेरी आस
मिट गया वज़ूद मेरा ,बच गया बस तेरा एहसास .
मानव मेहता 'मन'
कहते हैं कि बाद अच्छा बदनाम बुरा .... पर क्या यह मानसिकता उचित है ?
ज़रा सोच कर देखिए ...
शिखा कौशिक नूतन
लक्ष्य एक है, डगर एक
जीवन कि भी राह नेक
तुम सा गर हो कोई साथी
कटे सफर की मुश्किल हरेक ..
अन्नपूर्णा बाजपेयी

सिमटती जा रही है जिंदगी कहीं
छतों की ज़द में
हर के नसीब आया है बस
एक मुट्ठी आसमान
पूनम
अब समझे कौन है......
आस मेरी वो प्यास मेरी ...
पीर मेरी ...
हृद चीर मेरी ...
व्यथा मेरी ,
अकथ कथा मेरी ...
अनुपमा त्रिपाठी
 
पुस्तक समीक्षा
अशोक खाचर
 
_____________________________________________
अंत में 
दुर्मिल सवैया लिखने के अपने प्रथम प्रयास पर आप सब का 
अनुमोदन चाहते हुए आपसे विदा लेती हूँ 

शालिनी रस्तोगी 

अगले रविवार फिर आपसे भेंट होगी कुछ चुनिन्दा लिंक्स के साथ - शुभ विदा......